UrbanPro
true

Find the best tutors and institutes for Yoga

Find Best Yoga Classes

Please select a Category.

Please select a Locality.

No matching category found.

No matching Locality found.

Outside India?

Search for topics

सूर्य नमस्कार में किन-किन आसनों आभास होता है? विस्तार से समझाइए?|steps of surya namaskar

Najmina K.
22/12/2020 0 0

सूर्य नमस्कार आसन|सूर्य नमस्कार|sun salutation benefits|how to do sun salutations correctly|the right way to do sun salutation,




 

 सूर्य जीवनदाता हैl सूरज की रोशनी के बिना जीवन नहीं चलता l वह भोजन जो मनुष्य को पौधों से मिलता है और जो भोजन पौधे अपने अस्तित्व के लिए तैयार करते हैं और हमें रखने के लिए है वह सूरज की रोशनी के बिना नहीं है l मानव जीवन की परिपूर्णता उस धूप में है l आदि काल से लोग अलग-अलग पोज़ में सूर्य को नमन करते आ रहे हैं l

 

 

सूर्य नमस्कार वास्तव में एक आसन नहीं है, यह एक व्यायाम है, लेकिन इस अभ्यास में इतना लाभ है कि योगी महापुरुषों ने इसे सीट पर रखा है।सूर्य नमस्कार एक आसन नहीं है, इसे मिश्रित व्यायाम कहना बेहतर है l 

 

सूर्य नमस्कार 12 योग आसनों का एक सेट है। इसमें कुल 6 आसन हैं और आपको फिर से 6 आसन बनाने हैं l 

सूर्य नमस्कार में 12 योग आसनों की स्थिति इस प्रकार है :

                         1. नमस्कार आशन

                         2. अर्ध चंद्रासन

                          3. हस्तपादासन

                          4. अश्व संचालनासन

5.चतुरंग दंडासन

                       6.अष्टांग नमस्कारम 

                        7. भुजंगासन

                         8. पर्वतासन। 

                      9. भुजंगासन

                       10. हस्तपादासन

                           11. अर्ध चंद्रासन

                           12. नमस्कार आशन

सूर्य को नमस्कार करने के नियम.नीचे विस्तार से समझाया गया है आप ध्यान से पढ़िए और अभ्यास करने का प्रयास करें

प्रक्रिया:

 


       1.  दोनों पैरों को एक साथ मिलाकर सीधे खड़े हो जाएं 

 

                   अब प्रणाम मुद्रा में दोनों हाथों को छाती के पास एक              

                                           साथ लाएं शरीर को शिथिल रखें 

 

 

 

 

                                 2. आपको दोनों हाथों को उठाकर अपने सिर पर रखना

 


                                             होगा जहाँ तक कमर को डाला जा सकता है, वहाँ तक

 

         
                                                       झुकें और अपनी आँखें आसमान पर टिकाएँ.

 

 

 

 

 


 3. दोनों हाथों से कानों तक नीचे, शरीर को मोड़ें और 

 

       
                       हाथों को पैरों के दोनों ओर इस तरह रखें कि नाक

                                      घुटनों को छुए। हाथ वहीं होंगे जहां वे फर्श पर हैं 

 

 

 

  4. बाएं पैर को यथासंभव पीछे की ओर करें, घुटने

 


    जमीन पर होंगे. दाहिना घुटना छाती के पास होना

 

        
                        चाहिए ,सीधे देखना। हाथ जहां है वहीं रहेगा

 

 

 

  

 


    5. दाएं पैर को बाएं पैर के साथ में इसे रखें शरीर

 

                 को सीधा रखें शरीर फर्श को नहीं छुएगा 

 

 

                                                     

 

 

 

                                             6. हाथों पर दबाव के साथ, छाती और ठोड़ी को 

 


जमीन पर रखें और साष्टांगप्रणाम करें      (साष्टांगप्रणाम 

 

         
                  का मतलब है कि आठ अंग जमीन पर होंगे )

 

 

 

                                                         

                                           7. सामने के शरीर को भुजंगासन की तरह आगे उठाएं 

 

     कोशिश करें कि पेट जमीन पर न रखें नितंब ऊपर होंगे

 

 


 

 

 

8. उठो और अपने पैरों को जमीन पर रखो। फिर से प्रयास 

 

               करो घुटने बिल्कुल सीधे नाभि की तरफ दृष्टि होगी हाथ

                                 वहीं रहेंगे जहां वे फर्श पर दबाव के साथ हैं

 

 



9. बाएं पैर को दोनों हाथों के बीच रखें आप बाएं पैर को मोड़

 

                  सकते हैं सीधे देखो।

 

 

 



10. दाहिने पैर को आगे लाएं और दोनों हाथों को कानों के

 

                   पास रखें। शरीर को आगे की ओर झुकते हुए, पैरों के दोनों

                                    ओर फर्श पर रखें ताकि नाक घुटनों पर हो 

 

 

 



11. आपको दोनों हाथों को उठाकर अपने सिर पर रखना 

 

                 होगा जहाँ तक कमर को डाला जा सकता है, वहाँ तक 

                                   झुकें और अपनी आँखें आसमान पर टिकाएँ.

 

 

 



12. एक बार फिर दोनों पैरों को एक साथ मिलाकर

 

                  सीधे खड़े हो जाएं अब प्रणाम मुद्रा में दोनों हाथों को

                                 छाती के पास एक साथ लाएं शरीर को शिथिल रखें 

 

 

 

सूर्य नमस्कार के लाभ: 

सूर्य नमस्कार एक संपूर्ण शरीर का व्यायाम है सूर्य नमस्कार सांस के लिए बहुत अच्छा है पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है और शरीर को स्वस्थ बनाता है हर पेशी मजबूत होती है, अंग मजबूत होते हैं कमर, गरदन, घुटना, रीढ़ की हड्डी लचीला बनाता है मन की शांति, मानसिक शक्ति, मानसिक ऊर्जा में वृद्धि होती है पूरे शरीर की संरचना को ठीक करता है

एहतियात:

यदि शरीर खराब है, तो सूर्य को नमस्कार न करें यदि आप 60 वर्ष से अधिक आयु के हैं तो सूर्य नमस्कार का अभ्यास न करें अगर आपको पेट की कोई सर्जरी या पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो तो सूर्य नमस्कार ना करें स्लिपडिस्क, टेस्टिकल इज़ाफ़ा, हार्ट डिसीज़, हर्निया हो तो सूर्य नमस्कार ना करें। 

निष्कर्ष:

आपको अपनी उम्र, चिकित्सा उपचार और शारीरिक क्षमता के अनुसार सूर्य नमस्कार करना होगा 

धन्यवाद।

 

👉👉सूर्य नमस्कार का सातवां आसन कोनसा है

 7. भुजंगासन

👉👉सूर्य नमस्कार की 5वीं स्थिति का नाम

5.चतुरंग दंडासन

👉👉,

 आप 60 वर्ष से अधिक आयु के हैं तो सूर्य नमस्कार का अभ्यास न करें

👉👉सूर्य नमस्कार की प्रैक्टिस

0 Dislike
Follow 3

Please Enter a comment

Submit

Other Lessons for You

Hatha Yoga Practices for Wellness
Hatha Yoga practices for wellness To experience the benefits for ourselves It helps us design our own self practise To bring support to your goals for teaching yoga Therapeutic sequences Assisting...

Suneeta | 13 Aug

0 0
0

Why Holistic Environment Is Needed for Yoga?
For yog practice, proper preparation is needed. Like the place, your yoga mat (asana), your daytime for practising yoga, your yoga outfits, and the time of practice and specific days for the woman. As...

Suneeta | 11 Aug

0 0
0

How Is Today’ Lifestyle? What Are Lifestyle Risk Factors for Heart Disease?
Lifestyle today: Speed Competition Insecurity Lifestyle diseases are the biggest killers in India. The World Health Organization (WHO) identifies lack of physical activity, tobacco, inadequate...

Suneeta | 11 Aug

0 0
0

What It Takes to Learn Foundation of Yoga?
Most research organisations and world-leading publications suggested a considerable shortage of people with excellent yoga skills knowledge. Also, the increasing need to live a healthier life with lifestyle...

How to loose weight- The most effective diet
You may have heard about many diets in controversy like keto, paleo, vegan etc claiming to be the best one in the industry for fat loss, but how do you know which one is it? The answer is simple! - "The...

Jyoti B. | 11 Jul

0 0
0

Looking for Yoga Classes?

Find best Yoga Classes in your locality on UrbanPro.

Are you a Tutor or Training Institute?

Join UrbanPro Today to find students near you
Sponsored
X

Looking for Yoga Classes?

Find best tutors for Yoga Classes by posting a requirement.

  • Post a learning requirement
  • Get customized responses
  • Compare and select the best

Looking for Yoga Classes?

Find best Yoga Classes in your locality on UrbanPro

Post your learning requirement

UrbanPro.com is India's largest network of most trusted tutors and institutes. Over 55 lakh students rely on UrbanPro.com, to fulfill their learning requirements across 1,000+ categories. Using UrbanPro.com, parents, and students can compare multiple Tutors and Institutes and choose the one that best suits their requirements. More than 7.5 lakh verified Tutors and Institutes are helping millions of students every day and growing their tutoring business on UrbanPro.com. Whether you are looking for a tutor to learn mathematics, a German language trainer to brush up your German language skills or an institute to upgrade your IT skills, we have got the best selection of Tutors and Training Institutes for you. Read more