true

Find the best tutors and institutes for Language

Find Best Language classes

Please select a Category.

Please select a Locality.

No matching category found.

No matching Locality found.

Search for topics

Language Updates

Ask a Question

Post a Lesson

All

All

Lessons

Discussion

Lesson Posted on 27 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

= , , , , , , , , , , + = ( , , , ) + = + = (, , , ) + = ... read more

                             अयादि सन्धि

स्वर  = अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ

ए+आ= अया 

ऐसे ही क्रमशः ए के बाद स्वर आने पर  (अयि, अयी, अयु, अयू आदि रूप) बनेंगे ।

ऐ+अ = आय

ऐ+आ = आया   

ऐसे ही क्रमशः ए के बाद स्वर आने पर (, आयी, अयु, अयू आदि रूप) बनेंगें।

ओ+आ =अवा  

ऐसे ही क्रमशः ओ के बाद स्वर आने पर (अवि, अवी, अवु, अवू आदि रूप) बनेंगें।

औ+अ = आव

ऐसे ही क्रमशः ए के बाद स्वर आने पर (आव, आवा, आवि, आवी आदि रूप) बनेंगे। 

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 27 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

‘ ’ = '' '' '' '' = ... read more

सम्प्रदान का अर्थ ‘देना’ होता है। जब वाक्य में किसी को कुछ दिया जाए या किसी के लिए कुछ किया जाए तो वहां पर सम्प्रदान कारक होता है।
सम्प्रदान कारक के विभक्ति चिन्ह = '' के लिए'' या '' को '' हैं।
सम्प्रदान कारक के उदाहरण
नरेश मीना के लिए फल लाया है। = नरेशः मीनायैै फलानि आनयत् ।
ऊपर दिए गए वाक्य में जैसा कि आप देख सकते हैं, '' के लिए '' चिन्ह का प्रयोग किया जा रहा है। इससे हमें पता चल रहा है कि किसी के लिए काम किया जा रहा है।

विकास तुषार को किताबें देता है। = विकाशः तुषाराय पुस्तकानि ददाति ।
जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं कि '' को '' विभक्ति चिन्ह का प्रयोग करता है। यह चिन्ह बताता है कि किसी ने किसी को कुछ दिया है।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 27 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

, = ( ) '' '' ... read more

                         अपादान कारक

जब संज्ञा या सर्वनाम के किसी रूप से किन्हीं दो वस्तुओं के अलग होने का बोध होता है, तब वहां अपादान कारक होता है।

अपादान कारक का विभक्ति चिन्ह = से (अलग होना अर्थ में)
अपादान कारक का भी विभक्ति चिन्ह '' से '' होता है। से चिन्ह करण कारक का भी होता है लेकिन वहां इसका मतलब साधन से होता है।
यहाँ से का मतलब किसी चीज़ से अलग होना दिखाने के लिए प्रयुक्त होता है।
अपादान कारक उदाहरण =  पेड़ से आम नीचे गिरता है।                                          वृक्षात् आम्रं पतति। 

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं, आम के पेड़ से अलग होने की बात कही जा रही है। इस वाक्य में '' से '' विभक्ति चिन्ह का प्रयोग किया जा रहा है।

यह चिन्ह हमें दो चीज़ों के अलग होने के बारे में बताता है। एवं जैसा कि हमें पता है कि जब दो चीज़ें अलग होती हैं, तो वहां अपादान कारक होता है। अतएव ये उदाहरण अपादान कारक के अंतर्गत आयेगा।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Looking for Language classes

Find best Language classes in your locality on UrbanPro.

FIND NOW

Lesson Posted on 28 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

– = , :--- = * , '' ... read more

                             अधिकरण कारक

अधिकरण का अर्थ – आश्रय। संज्ञा का वह रूप जिससे क्रिया के आधार का बोध हो उसे अधिकरण कारक कहते हैं।

अधिकरण कारक के विभक्ति चिन्ह = में, पर

अधिकरण कारक के उदहारण :---
राम घर में रहता है । = रामः गृहे वसति ।

* जैसा कि हमें पता है, जब किसी वाक्य में '' में '' विभक्ति चिन्ह का प्रयोग किया जाता है तो वो अधिकरण कारक होता है। अतः यह उदहारण भी अधिकरण कारक के अंतर्गत आएगा।

मेज पर फल रखें हैं। = काष्ठपीठे फलानि सन्ति।

* जैसा कि हमें पता है, जब किसी वाक्य में '' पर '' विभक्ति चिन्ह का प्रयोग किया जाता है तो वो अधिकरण कारक होता है। अतः यह उदहारण भी अधिकरण कारक के अंतर्गत आएगा।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 28 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

( )

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

( ) ‍ ‍ ‍ : 2/3/43 ( / ) , ‍ ( ) : ‍ ‍ : - - ‍... read more

                  सप्तमी विभक्ति (उपपद विभक्ति)

साधुनिपुणाभ्‍यामर्चायां सप्‍तम्‍यप्रते:।। 2/3/43 ।।
( अधिकरण कारकम्/सप्तमी विभक्ति )

साधु, निपुण च शब्‍दौ यदा पूजा (आदर) अर्थे भवत: तदा ताभ्‍यां सह सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् -
पितरि साधुः निपुणो वा - माता के प्रति सज्‍जन या माता की सेवा में निपुण ।।

हिन्‍दी -
साधु तथा निपुण शब्‍दों का प्रयोग जब पूजा (आदर) अर्थ में हो तो इन दोनों के साथ सप्‍तमी विभक्ति होती है ।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 28 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

( )

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

2 ⁄ 3 ⁄ 41 ( ) ‚ ‚ ‚ ( ) ... read more

                   निर्धारण में सप्तमी विभक्ति

यतश्च निर्धारणम् ।। 2 ⁄  3 ⁄ 41 ।।
(अधिकरण कारकम् )

जाति‚ गुण‚ क्रिया‚ संज्ञा एतेषां विशेषताधारेण कस्यचित् कस्माचित् समुदायात् पृथक्करणं (आवंटनम्) इत्युच्यते । यस्मात् किमपि निर्धार्यते तस्मिन् षष्ठी उत सप्तमी विभक्तिः भवति ।

उदाहरणम्
मनुष्याणां मनुुष्येषु वा  श्रेष्ठः = मनुष्यों में  श्रेष्ठ है ।
गवां गोषु वा कृष्णा बहुक्षीरतमा = गायों में काली गाय अधिक दूध देती है ।

छात्राणां छात्रेषु वा  पटुः = छात्रों में  चतुर है ।

हिन्दी –
जाति‚ गुण‚ क्रिया‚ संज्ञा की विशेषता के आधार पर किसी एक को अपने समुदाय से पृथक् करने को निर्धारण या छाँटना कहते हैं । जिसमें से निर्धारण किया जाए उनमें षष्ठी तथा सप्तमी दोनों विभक्तियाँ होती हैं ।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 28 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

( )

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

‍ 2/3/37 ‍ : : : ‍ ‍ : :, ‍ : ----- : - ... read more

                            सप्तमी विभक्ति

यस्‍य च भावेन भावलक्षणम् ।। 2/3/37 ।।

यया क्रियया अन्‍यक्रियाया: स्थिति: सूचित: भवति तस्‍यां क्रियायां तस्‍या: कर्तु:, कर्मणि च  सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् ----- 
गोषु दुह्यमानासु गत: - जब गायें दुही जा रहीं थीं तब वह गया ।

अत्र गो इति कर्मणि विद्यमाना दोहन-क्रियया गमनक्रिया लक्षिता अभवत् अत: उक्‍तसूत्रेण सप्‍तमी विभक्तिरभव‍त् ।।

हिन्‍दी ---- 
जिस क्रिया से अन्‍य क्रिया का होना लक्षित होता है उस क्रिया तथा उसके कर्ता और कर्म में सप्‍तमी विभक्ति होती है ।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 28 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit Tuition/Class 6 Tuition +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

( )

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

( ) = ... read more

                        विकार अर्थ में विभक्ति

जिस अंग के विकार से शरीर में  विकृति लक्षित हो (दिखाई दे)  उस अंग में तृतीया विभक्ति होती है।

नेत्रेण अन्धः अस्ति = आंख से अन्धा है।


क्रिया की विशेषता बतानेवाले शब्द को क्रियाविशेषण कहते हैं क्रियाविशेषण में तृतीया विभक्ति होती है। कहीं अव्यय शब्दों का भी प्रयोग क्रियाविशेषण के रूप में होता है।)

ज्ञानी सुखेन जीवती = ज्ञानी सुख से जीता है।


महात्मानः स्वभावेन कोमलाः भवन्ति = महात्मा स्वभाव से कोमल होते हैं।

 

read less
Comments
Dislike Bookmark

Lesson Posted on 28 Nov Language/Sanskrit Language Tuition/Class 6 Tuition Tuition/Class IX-X Tuition/Sanskrit +3 Tuition/Class 7 Tuition Tuition/Class VI-VIII Tuition Tuition/Class IX-X Tuition less

( )

Arun

I have been in the field of teaching for the past five years, I teach the only subject Sanskrit and Hindi...

, , = = = ... read more

                      साथ के योग में विभक्ति 

साकम्, सार्धम्, समम् के साथ तृतीया विभक्ति होती है

नक्षत्रेण सह चन्द्रमा उदेति = ताराओं के साथ चन्द्रमा उगता है ।
अन्यया भाषया सह संस्कृतमपि अवश्यं शिक्षेयुः = अन्य भाषाओं के साथ संस्कृत को भी अवश्य सीखें।
दुग्धेन सह घृतमप्यलिक्षत् मार्जारी = बिल्ली दूध के साथ घी भी चाट गई।
शाकेन सह शदः अपि स्यात् = सब्जी के साथ सलाद भी होवे / होनी चाहिए।
वास्तुकेन सह साकं सार्धं समं वा पै्रयङ्गवी स्वादुतां याति = बथुए के साथ बाजरे की रोटी स्वादिष्ट लगती है।

read less
Comments
Dislike Bookmark

Looking for Language classes

Find best Language classes in your locality on UrbanPro.

FIND NOW

Answered on 24 Oct Language/Foreign Language/German Language

Roshini Hiro Dhansingani

Usually, demo classes are free, but some tutors do charge for demo classes. In this case, as you have paid your tutor, I would recommend you to speak to your tutor and schedule a demo class asap and if they.dont agree, ask them to give you a refund.
Answers 13 Comments
Dislike Bookmark

About UrbanPro

UrbanPro.com helps you to connect with the best Language classes in India. Post Your Requirement today and get connected.

Overview

Questions 2.2 k

Lessons 852

Total Shares  

+ Follow 93,021 Followers

Related Topics

Top Contributors

Connect with Expert Tutors & Institutes for Language

x

Ask a Question

Please enter your Question

Please select a Tag

UrbanPro.com is India's largest network of most trusted tutors and institutes. Over 25 lakh students rely on UrbanPro.com, to fulfill their learning requirements across 1,000+ categories. Using UrbanPro.com, parents, and students can compare multiple Tutors and Institutes and choose the one that best suits their requirements. More than 6.5 lakh verified Tutors and Institutes are helping millions of students every day and growing their tutoring business on UrbanPro.com. Whether you are looking for a tutor to learn mathematics, a German language trainer to brush up your German language skills or an institute to upgrade your IT skills, we have got the best selection of Tutors and Training Institutes for you. Read more